Sunday, June 20, 2021

बदले की आग– बचपन का जख्म जवानी में बन गया नासूर,मौका मिला तो फिर ऐसा लिया बदला

छविनाथ भारव्दाज पत्रकार बैतूल। कहते है जर,जोरू और जमीन अक्सर झगड़े की वजह बनते है। बैतूल में भी चार दिन पहले कुछ ऐसा ही हुआ।यहां एक किसान का उसके ही पड़ोसी रिश्तेदारों ने अपहरण कर हत्या कर दी और लाश बोरे में भरकर कुँए में फेंक दी। यही नही लाश पर इतने बड़े बड़े पत्थर बांध दिए कि लाश बाहर ही नही आ सके। किन्तु पुलिस की तलाश में सारे भेद खुल गए। बैतूल की मुलताई पुलिस ने आज इस अपहरण और हत्याकांड का खुलासा करते हुए तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है।

50% LikesVS
50% Dislikes

हेडलाइन ऑडिटर्स के लिए समाचार सत्यापन

यह एक ऐसा समाचार लगता है जो आपके उद्योग के लिए प्रासंगिक है। क्या आप समाचार की सत्यता की पुष्टि करना चाहेंगे?
कृपया अपना गुप्त नंबर यहाँ दर्ज करें

महत्वपूर्ण समाचारों को सत्यापित करने में हमारी सहायता के लिए उद्योग विशेषज्ञ बोर्ड का निर्माण कर रहे हैं। यदि आप स्वयं को पैनल में शामिल करना चाहते हैं, तो कृपया यहां क्लिक करें

रिपोर्ट पोस्ट

Chhavinath bhardwaj
मैं मध्य स्वदेश अखबार का जिला संवाददाता हूं पिछले कई वर्षों से पत्रकारिता के क्षेत्र में कार्यरत हूं।

इस लेखक के अन्य पोस्ट

ताज़ा लेख