Monday, January 25, 2021
होम शहर यूपी में भ्रष्टाचार पर जीरो टॉलरेंस का बढ़ा दायरा, दस माह में...

यूपी में भ्रष्टाचार पर जीरो टॉलरेंस का बढ़ा दायरा, दस माह में पुलिसकर्मियों पर भ्रष्टाचार के 42 मुक़दमे

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के महोबा के निलंबित एसपी मणिलाल पाटीदार क्रशर कारोबारी की मौत के मामले में न सिर्फ भगोड़ा घोषित हैं, बल्कि पुलिस उनकी सरगर्मी से तलाश भी कर रही है। भ्रष्टाचार के संगीन मामले में डीआइजी अरविंद सेन और डीआइजी दिनेश चंद्र दुबे निलंबित किए जा चुके हैं। कानपुर के बहुचर्चित बिकरू कांड में पुलिसकर्मियों ने ही खुद अपनों की ही मुखबिरी की और पूरे महकमे को शर्मसार किया। ऐसी घटनाओं के बाद सूबे में पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई का दायरा बढ़ा है। इस वर्ष एक जनवरी से 31 अक्टूबर के बीच भ्रष्टाचार की शिकायतों पर पुलिसकर्मियों के विरुद्ध 42 मुकदमे दर्ज किए गए हैं। जिस तरह मौजूदा साल कोरोना के लिए हमेशा काली तारीख बनकर इतिहास में दर्ज रहेगा

रिपोर्ट पोस्ट

इस लेखक के अन्य पोस्ट

ताज़ा लेख